तहसील बाह का लाल संतोष भदौरिया जम्मू एंड कश्मीर के अखनूर सेक्टर में हुए शहीद पार्थिक शरीर पहुंचा शहीद के घर

Please Share This link

आगरा जिले की सबसे पिछड़ी हुई तहसील वाह जो सैनिक और खिलाड़ियों की खान रही है वाह की माटी में पैदा होते हैं देश की रक्षा करने वाले सैनिक और खिलाड़ी वहीं जम्मू कश्मीर के अखनूर सेक्टर में तैनात संतोष भदौरिया जो सन 1997 में सेना में भर्ती हुए थे और अखनूर सेक्टर में तैनात थे जहां आतंकवादियों ने माइंस बिछाकर उनकी गाड़ी को उड़ा दिया और वह शहीद हो गए उनके साथ 3 लोग घायल हुए थे मगर संतोष भदौरिया ने हॉस्पिटल में ही दम तोड़ दिया तो उनका पार्थिव शरीर जब आज पूरा भदोरिया पहुंचा जहां उनकी यूनिट और प्रशासन पुलिस महकमे ने उनको सलामी दी वहीं पूरे गांव में कोहराम मचा रहा किसी के घर में भी चूल्हे नहीं जले अंत्येष्टि स्थल पर सेना और पुलिस ने गार्ड ऑफ सलामी दी डीएम आगरा एनजी रवि कुमार पुलिस कप्तान बबलू कुमार सांसद राजकुमार चाहर जिला अध्यक्ष श्याम भदौरिया कांग्रेश जिला अध्यक्ष मनोज दीक्षित व उप जिलाधिकारी वाह अवधेश श्रीवास्तव पूर्व उप जिलाधिकारी महेश प्रकाश गुप्ता क्षेत्र अधिकारी वाह रितेश कुमार अन्य प्रशासनिक अधिकारी पहुंचे पूरा भदोरिया शहीद को पुष्प चक्र भेंट कर श्रद्धांजलि अर्पित की डीएम एनजी रवि कुमार सांसद राजकुमार चाहर जिलाध्यक्ष श्याम भदौरिया मानवेंद्र राठौर ने मुख्यमंत्री राहत कोष से शहीद संतोष भदौरिया की पत्नी को ₹25लाख का चेक प्रदान किया वहीं उनकी दोनों बेटियों ने चैक लेने से मना कर दिया और कहा कि हमें अपने पापा की शहादत का पाकिस्तान से बदला चाहिए वही सैनिक के पुत्र ने मुखाग्नि दी और कहा कि मैं भी पापा की तरह सेना में बड़ा अफसर बनना चाहता हूं और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देना चाहता हूं वहीं उनकी बेटियों ने कहा कि एक सिर के बदले हमें 10 सिर चाहिए।

आपको बता दें कि जब शहीद का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो पूरा गांव गमगीन दिखा और संतोष भदौरिया अमर रहे एवं पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे गूंजते रहे वहीं हर किसी की आंखें नम हुई । वही पूरा भदौरिया के सभी युवा भी सेना में जाकर अपने गांव के लाल संतोष भदौरिया की शहादत का लेना चाहते हैं। आपको बतादें कि शहीद संतोष भदौरिया ने अपने परिवार में दो बेटियां और एक बेटे को छोड़ा है तो वहीं दूसरी ओर संतोष भदौरिया के दो भाई भी हैं जो गांव में किसान हैं गांव में रहकर ही खेती-बाड़ी करते हैं।

 

Please Share This link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *