भूमाफियाओ का आतंक पीड़ित काट रहे उच्चधकरियों के चक्कर

Please Share This link

 

लखीमपुर खीरी – एक तरफ सरकार भूमाफियो पर नकेल कसने के लिए हर सम्भव प्रयास कर रही है वही लखीमपुर खीरी में परस्थतिया इसके विपरीत देखने को मिल रही हैं।आए दिन लगातार भू माफियाओं के मामले सामने आ रहे हैं पर भूमाफियाओं पर कार्यवही नही हो पाना ये अपने आप और शासन प्रशासन के लिए बड़े सवाल खड़े करता है सरकार भूमाफिया पोर्टल जैसे तमाम माफिया पर नकेल कसने के लिए दावे करती है लेकिन कहीं न कहीं सरकार की तमाम कोशिशें नाकाम होती नजर आ रही है और वास्तविक रूप से भूमाफिया के खिलाफ किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं हो पा रही है।जिसका जीता जागता उदाहरण भीरा थाना क्षेत्र व फूलबेहड़ थाना क्षेत्र में देखने को मिला पहला मामला भीरा थाना क्षेत्र के डिमरौल गाँव का है जहाँ पर कुछ दबंगों ने दबंगाई के दम पर भीरा कस्बे में मौजूद जमीन पर कब्जा कर लिया पीड़ित ने इसकी शिकायत जनपद के आलाधिकारियों से की मालूम हो कि एसपीके निर्देश पर सीओ गोला और भीरा एसो प्रदीप कुमार ने मौके पर जाकर एफआईआर लिखकर कड़ी कार्रवाई करने की बात कही लेकिन एक महीना बीतने के बाद भी पुलिस अब तक किसी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं कर पाई है पीड़ित की माने रोजाना नए नए बहाने बनाकर एसओ सीओ पर और सीओ महोदय एसपी पर डालकर अपना पल्ला झाड़ रहे हैं जबकि आवेदक एसपी से कई बार मिलकर मामला निपटाने की गुहार लगा चुका है। दूसरा मामला थाना फूलबेहड़ के ग्राम तेतारपुर से निकल कर आया है जहाँ दबंगों द्वारा उदशीन आश्रम राम जानकी मंदिर की कृषि भूमि पर एक दबंग ने कब्जा कर लाखों की फ़सल को उपजा कर मलाई काट रहे हैं। तो वही पीड़ित शिकायत कर्ता जिले के उच्चधकरियों सहित मुख्यमंत्री तक न्याय की गुहार लगाई है बावजूद इसके प्रशासन द्वारा शासन को ग़लत आख्या भेज कर शासन को गुमराह कर रहे है और पीड़ित न्याय के लिए दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है।आखिर इसके पीछे कौन सा बड़ा राज हैं।ये सबसे बड़ा सवाल है।हालांकि जिम्मेदार अधिकारी पाड़ितों को सिर्फ आश्वासन देकर आजकल मामला निपटाने का भरोसा जरुर देते रहते हैं।हम बात योगी सरकार में कानून-व्यवस्था की कर रहे हैं सीएम योगी समय-समय पर अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें सख्त निर्देश देते रहते हैं लेकिन उनके निर्देशों पर अधिकारी-कर्मचारी कितना अमल करते हैं इसका जीता जागता उदाहरण यूपी के सबसे बड़ा जिला माने जाने वाला लखीमपुर-खीरी से लगा सकते हैं।

Please Share This link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *