आयुर्वेद में है हार्ट व ब्रेन हेमरेज का इलाज कोमा के मरीज को आयुर्वेद करेगा जल्द ठीक -डॉ अनुज जैन

Please Share This link

 

गाजियाबाद;- विश्व आयुर्वेद परिषद के तत्वाधान में आई एम ए भवन राजनगर में आपातकालीन चिकित्सा एवं कैंसर पर विशाल सेमिनार का आयोजन किया गया इस अवसर पर देश के जाने-माने डॉ अनुज जैन ने कहा आयुर्वेद में हार्ट व किडनी और ब्रेन हेमरेज का इमरजेंसी इलाज है। आई एम ए भवन में चल रहे आयुर्वेद पर सेमिनार में ग्वालियर मध्य प्रदेश से पहुंचे देश के जाने-माने आयुर्वेद डॉ अनुज जैन का दावा है। कि आयुर्वेद में सभी बीमारियों का इमरजेंसी इलाज है और मरीज को तुरंत इलाज देकर बचाया जा सकता है।

डॉ अनुज जैन ने कहा कि इसके लिए आयुर्वेद के डॉक्टर को जानकारी होनी चाहिए। डॉ अनुज जैन का दावा है कि किसी भी लकवा ग्रस्त मरीज को आयुर्वेद में 1 सप्ताह के अंदर चलने फिरने के लायक ठीक किया जा सकता है लेकिन शर्त है कि उसका इलाज पहले कहीं और नहीं कराया गया हो। डॉक्टर जैन ने कहा कि उन्होंने कई ऐसे मरीजों को ठीक किया है कि जिनका ब्रेन हेमरेज हो गया था डॉ जैन ने कहा कि अगर मरीज को ब्रेन की नशे फट गई तो उसका आयुर्वेद में ठीक करने का ज्यादा बेहतर इलाज है। अगर मरीज की नसें सिकुड़ गई है तो इसमें इलाज कुछ मुश्किल हो जाता है।

डॉ जैन ने कहा कि भारत आयुर्वेद का जन्मदाता है और देश आयुर्वेद इलाज से स्वस्थ रहा है भारत में लोगों मरीजों की एक धारणा बन गई है कि आयुर्वेद इलाज लंबे समय तक चलने वाला इलाज है यह जल्द ठीक करने वाला इलाज नहीं है जबकि आयुर्वेद में एक बुखार वाले मरीज को उतनी ही देर से आराम देगा जितना की अंग्रेजी दवा से आराम मिलता है उन्होंने कहा कि शरीर में कोई भी बीमारी हो उसका इलाज अंग्रेजी दवा में होगा या नहीं होगा लेकिन आयुर्वेद में हर बीमारी का इलाज है इस अवसर पर विश्व आयुर्वेद परिषद के अध्यक्ष डॉ आनंद वशिष्ट ने कहा कि आयुर्वेद ऋषि मुनियों का एक दिया हुआ उपहार है कोई भी बीमारी लाइलाज होने पर आयुर्वेद से ही संभवत ठीक हो जाती है

इस अवसर पर डॉ सुरेंद्र चौधरी डॉक्टर योगेश पांडे डॉक्टर मीनू वालिया डॉक्टर आलोक शर्मा राहुल बंसल डॉ पूजा संभाल डॉक्टर अरुण वर्मा चंद्र चंद्र मिश्रा डॉ प्रेम चंद्र शास्त्री डॉ महेश चंद्र अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

रिपोर्ट;- अजय सोलंकी, गाजियाबाद

Please Share This link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *