ये कैसा योग जिसे देख आप भी दंग रह जायेंगे

Please Share This link

ये कैसा योग जिसे दिखे आप भी दंग रह जायेंगे…

अगर आपको किसी ऐसे व्यक्ति के बारे मैं बताया जाए जो पानी मैं बड़े आराम से घंटों बैठने के अलावा लेटने के साथ साथ विभिन्न मुद्राओं मैं योग व करतब दिखा सकता है तो शायद आपको किसी दंतकथा का अभाश हो , मगर चोंकिये नही यह सच है शहर के एक बकील हरेश चतुर्वेदी ऐसे ही व्यक्ति हैं जो बड़ी आसानी से ये सब कर लेते हैं यकीं न आये तो आइये आप भी देख लीजिये ….21 जून विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है….और तरह तरह के योग किये औऱ दिखाए जाते है….लेकिन हम आज आपको एक अलग तरह के योग के बारे में बताने जा रहे है….जिसके बारे में आपने शायद न सुना हो और न देखा हो….हम बात कर रहे है जलयोग की….

जल की सतह पर योगासन करना और घंटों तक योगासन की मुद्रा मैं सतह पर बने रहना आपको सुनने मैं कुछ अजीब सा जरुर लगता है परन्तु ताजनगरी आगरा मैं इसके एक एक्सपर्ट भी हैं जी हाँ शहर के जाने माने क्रिमनल वकील हरेश चौबे को इसी योगासन मैं महारथ हासिल है….. पेशे से वकील और आध्यात्म मैं विस्वास रखने वाले हरेश चौबे को इस हुनर मैं माहिर होने के लिए दो महीने का समय लगा , खंदारी निवासी हरेश चौबे ने आठ साल पहले पानी मैं योग करने का अभ्यास शुरू किया , हर रोज दो घंटे का अभ्यास और अपनी लगन से महज दो महीने मैं किताबों मैं लिखी कल्पना को साकार करने मैं सफल हो गये…..हरेश ने संत महात्माओं के पानी मैं योग करने के किस्से सुने थे इसी बात ने उन्हें प्रेरणा दी और शुरू हो गया प्रतिदिन का अभ्याश….अब वह पानी की सतह पर घंटों प्राणायाम , पद्मासन , ब्रह्मासन ,ताड़कासन , गरुणसन की मुद्रा मैं खड़े और बैठे रहते हैं …..और लगभग चार घंटे तक लगातार वो ये योग पानी पर कर सकते हैं …. वो कहते हैं कि यह एक तपस्या है जिसे सीखने के लिए योग और तैराकी आना जरुरी है वो कहते हैं इस कार्य को करते समय कई खतरे भी हैं लेकिन उनके ऊपर ईस्ट देव की कृपा रहती है……

पानी पर योग अपेक्षाक्रत अधिक फायदेमंद है इसके करने से रक्त प्रभाव सुचारू रहता है यह व्यक्ति को मानशिक रोग के साथ विशेषकर ह्रदय और फेफड़ों के रोग से दूर रखता है… आज आगरा के एक निजी स्कूल के स्विमिंग पूल पर इस योग का प्रदर्शन किया गया जन्हा शहर के वरिष्ठ लोगों ने जमकर चौबे जी के अद्भुत खेल व योग का आनंद लिया और सराहना की…..

योग गुरु हरेश का बस अब एक ही सपना है कि किसी तरह सरकार उनका साथ दे ताकि वो इस हुनर मैं लोगों व आने वाली पीडी को माहिर कर सकें और रास्ट्रीय स्तर पर इसे खेल का रूप दे सकें …..बस जरुरत है तो कुछ ऐसे हाथों की जो उनकी मदद को आगे आयें , ताकि ऋषि मुनियों की इस परंपरा को आगे बढ़ाया जा सके ……

Please Share This link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *